दीपिका चिखलीअ पहुंची कपिल शर्मा शो में Deepika Chikhalia Biography in Hindi

Deepika Chikhalia in Kapil Sharma Show Deepika Chikhalia Biography in Hindi

1987 से 1988 के बीच भारतीय टेलीविजन पर शुरू हुए रामानंद सागर की ‘रामायण’ ने कुछ ही दिनों में हर घर में अपनी जगह बना ली थी। रामानंद सागर के पौराणिक शो 'रामायण' के एक्टर्स में लोग वास्तविक देवी-देवताओं की छवि देखने लगे थे। खासकर राम का रोल करने वाले अरुण गोविल और सीता का रोल करने वालीं दीपिका चिखलिया की तो लोग पूजा तक करने लगे थे। इस धारावाहिक की खास बात इसके किरदार थे जिसने लोगों के दिलों में वो जगह बनाई जो आजतक कोई नहीं बना सका। इन्ही किरदारों में से एक हैं देवी सीता का किरदार। इस किरदार को परदे पर जीवंत किया दीपिका चिखलिआ ने। उन्होंने सीता के रूप में घर-घर में अपनी खास जगह बनाई। 




करोड़ों दिलों में दीपिका चिखलिया की छवि अब भी सीता के रूप में बनी हुई है। उन्हें अदाकारी का शौक था और जब उन्हें यह मौका मिला तो वह खुद को रोक नहीं पाई और इस किरदार के लिए हामी भर दी। वैसे हमें बताने की जरूरत नहीं है कि उनकी लोकप्रियता ने किस मुकाम को हासिल किया था, लेकिन जब ये धारावाहिक बंद हुआ उसके बाद सबके दिलों में बसने वाली दीपिका ना जाने अचानक से कहां खो गई। और हम भी बदलते वक्त के साथ उन्हें भूल गए। लेकिन क्या आप जानना चाहेंगे कि इस समय दीपिका कहां है? तो चलिए दीपिका के बारे में आज सारी बातें आपको बताते हैं। 



दीपिका चिखलीअ का जन्म 29 अप्रैल 1965 को मुंबई में हुआ था। दीपिका ने 'रामायण' में आने से पहले कई फिल्मों में काम किया था। वे 'भगवान दादा' (1986), 'रात के अंधेर में' (1987), 'खुदाई' (1994), 'सुन मेरी लैला' (1985), 'चीख' (1986), 'आशा ओ भालोबाशा' (बंगाली, 1989) और 'नांगल' (तमिल, 1992) में बतौर एक्ट्रेस नजर आईं। इनमें से ज्यादातर फिल्में बी-ग्रेड थीं। 2017 में दीपिका ने गुजराती सीरियल 'छुटा छेड़ा' से पर्दे पर वापसी की थी। उन्होंने डायरेक्टर मनोज गिरी की फिल्म 'ग़ालिब' में भी काम किया है।

दीपिका ने एक्टिंग के शुरुआती दौर में कुछ बी ग्रेड वाली हॉरर फिल्में भी की थीं। इनके नाम थे रात के अंधेरे में और चीख। इन सो कॉल्ड ए सर्टिफिकेट वाली फिल्मों में काम करते वक्त दीपिका शायद 18 साल की भी नहीं थीं। ये फिल्में रामायण से पहले की हैं। बीबीसी को दिए एक इंटरव्यू में दीपिका ने कहा कि मैं सीता का रोल करते समय 15-16 साल की थी। इसके अलावा दीपिका ने कुछ ए ग्रेड फिल्में भी कीं। उनकी आखिरी फिल्म थी बेखुदी। 1994 में आई इस फिल्म में उनके हीरो थे राजेश खन्ना।

रामायण में सीता का रोल करने वाली दीपिका चिखलिया का नाम बदल गया है। शादी के बाद वह दीपिका टोपीवाला बन गई हैं. उनके पति हेमंत टोपीवाला की एक कॉस्मैटिक कंपनी है। दीपिका इसी कंपनी की रिसर्च और मार्केटिंग टीम को हेड करती हैं। ये कंपनी श्रंगार बिंदी और टिप्स एंड टोज नेलपॉलिश बनाती है। उनकी दो बेटियां हैं निधि और जूही। दोनों अभी पढ़ाई कर रही हैं। जब बेटियां स्कूल में होती हैं, तब दीपिका दफ्तर में। और शाम को वह होममेकर के रोल में आ जाती हैं। कई लोगों को शायद याद न हो या पता न हो कि दीपिका सांसद भी रही हैं। उन्होंने बीजेपी के टिकट पर 1991 में वडोदरा से लोकसभा चुनाव जीता था। कुछ ही सालों में उनका मोहभंग हो गया इन सबसे। हालांकि आज भी उनको धार्मिक रोल ऑफर होते रहते हैं।

दीपिका को उस वक्त के तत्कालीन प्रधानमंत्री राजीव गांधी ने भी सम्मानित किया था। उन्हें हर जगह पहचान मिली। उन्होंने अपने एक इंटरव्यू में कहा था, “जब हम बाहर निकलते थे तो लोग हमारे पैर छूते थे। वो समझते थे कि हम वाकई राम और सीता हैं।” रामायण’ को भले ही तीन दशक बीत चुके हों, लेकिन दीपिका आज भी सीता के रूप में ही घर-घर में पहचानी जाती हैं।

अब वर्तमान की बात करें तो दीपिका कहती हैं आज तकनीकी रूप से फिल्म और टीवी बेहतर हो गया है। साथ ही रियलिस्टिक सिनेमा बन रहा है, जो बड़ी अच्छी बात है। मैं ऐसा सिनेमा करना भी चाहती हूं। लेकिन अब मैं फिल्मों में काम करने को ही प्रॉयोरिटी देना चाहूंगी, क्योंकि उसमें टीवी जितना समय नहीं लगता है। अगर वेब सीरीज में मौका मिला तो में वेब सीरीज का हिस्सा भी बनना चाहूंगी। दीपिका को लिखने का भी शौक रहा है।

दीपिका अभी फरवरी 2020  के शुरू में द कपिल शर्मा शो में बतौर गेस्ट अपने साथी अरुण गोविल और सुनील लाहिरी के साथ शामिल हुए। ये एपिसोड 08.03.2020 को सोनी टीवी पर ओन एयर होगा। 


टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां