BR चोपड़ा महाभारत के अभिमन्यु और यंग अमिताभ बच्चन Actor Mayur Raj Verma Biography in Hindi

Abhimanyu Actor Mayur Raj Verma Biography in Hindi

90 के दशक के धारावाहिकों में शुमार महाभारत धारवाहिक की एक अपनी ही पहचान थी। जिसे उसके बाद बनने वाली महाभारत धारवाहिकों में से किसी ने टक्कर नहीं दी। यहाँ तक की रामायण के बाद महाभारत ही ऐसा धारावाहिक था जिसने सबके घर, दिल और दिमाग में जगह बनाई। हम अपने चैनल पर लगातार पुराने  कलाकारों के बारे में बताते आ रहे हैं। इसी क्रम में हम आज आपको बताएँगे महाभारत के उस कलाकार के बारे में जिसके कारण अमिताभ बच्चन को एंग्री यंग बनने में सफलता हासिल हुई।



इस कलाकार ने दौलत, शोहरत सब कमाया लेकिन अचानक एक दिन वो इंडस्ट्री से गायब हो गया। इस कलाकार ने महाभारत में अभिमन्यु की भूमिका निभाई थी। जी हां आपको सुनकर आश्चर्य होगा और शायद आप सोच भी रहे होंगे की अमिताभ बच्चन और इस कलाकार में क्या कनेक्शन है। तो चलिए देखते है वो पूरी जानकारी लेकिन उस से पहले आपसे रिक्वेस्ट है चैनल पर नए हो तो चैनल को सब्सक्राइब कर लें , कमेंट करके बताएं वीडियो कैसा लगा और पसंद आये तो लाइक और शेयर करना न भूलें। 

हम जिन कलाकार के बारे में बात कर रहे हैं वो उस ज़माने के जाने पहचाने कलाकार थे। इनका नाम है मयूर राज वर्मा। वैसे तो इनको कई अलग अलग नामो से जाना जाता है जैसे राज वर्मा, मयूर राज वर्मा, मास्टर मयूर  और कहीं डैडी राज। शायद इसी कारण से इंटरनेट में इनकी जानकारी अलग अलग मिलती है। अभिनेता मयूर राज वर्मा का जन्म वर्ष 1994 में दिल्ली में हुआ था। इनकी माँ का नाम स्नेहलता वर्मा है जो की एक पत्रकार थी फिर बाद में लेखक और निर्देशक भी बन गयीं। मास्टर मयूर के अभिनेता बनने के पीछे उनकी माँ का हाथ है। उनकी माँ ने दिन रात एक कर दिया उन्हें अभिनेता बनाने में। वो एक पत्रकार थी और प्रोडूसरों से मिलती थी इंटरव्यू के लिये। इन्ही इंटरव्यू के दौरान उनकी मुलाकात हुई प्रोडूसर प्रकाश मेहरा जी से। यही से उन्हें पहली फिल्म मुक़्क़दर का सिकंदर मिली। उन्होंने वर्ष 1983 में अनुराधा पटेल जी से विवाह किया।  उन्होंने पार्ट टाइम में हस्तरेखा ज्योतिष का काम भी किया है। इसके अलावा उन्होंने डायरेक्टर , प्रोडूसर और टीवी प्रेसेंटर का काम भी किया है।

मुक्कदर का सिकंदर से उनके फ़िल्मी करियर की शुरुआत हुई थी। फिल्म के सीन में एक पतले से लड़के की एंट्री होती है जो काफी गरीब है और चेहरे पर चिंता की लकीरें हैं। सीन में एक चोर किसी महिला का पर्स लेकर भागता है जिससे लड़कर वो लड़का उस पर्स को छीनकर महिला को वापस कर देता है। वो महिला उसे अपना बेटा बना लेती है और इस तरह उस अनाथ और बेघर लड़के को सहारा मिल जाता है। यही लड़का आगे चलकर फिल्म में अमिताभ बच्चन बन जाता है। इसी फिल्म ने उन्हें रातो रात बॉलीवुड की दुनिआ का चमकता सितारा बना दिया। ये फिल्म भारतीय सिनेमा के इतिहास में सफल फिल्मों में से एक रही जिसने डायमंड जुबली भी मनाई। अभिनेता मयूर राज वर्मा 70, 80 और 90 के दशक के सबसे महंगे चाइल्ड आर्टिस्ट में से एक थे जिन्हे सबसे ज्यादा फीस दी जाती थी। इन्होने बतौर चाइल्ड आर्टिस्ट कई फिल्मों में काम किया। ज्यादातर फिल्मों में उन्होंने अमिताभ बच्चन के बचपन का किरदार निभाया जिसकी वजह से उन्हें यंग अमिताभ के नाम से भी जाना जाता था। अमिताभ बच्चन बनकर जितनी पॉपुलैरिटी मयूर वर्मा ले गए उतनी आज तक किसी भी चाइल्ड आर्टिस्ट को नहीं मिली। 

इस फिल्म के बाद तो अमिताभ की हर फिल्म के मयूर राज वर्मा को साइन किया जाने लगा। कहा जाता है कि अमिताभ बच्चन की एंग्री यंग मैन वाली छवि को बनाने में कुछ हद तक हाथ मयूर राज वर्मा का भी है। मयूर राज वर्मा जिस तल्लीनता और गंभीरता के साथ अमिताभ के बचपन को परदे पर जीते थे उससे लोग आज भी प्रभावित हैं। मुकद्दर का सिकंदर करने के बाद उन्होंने लगातार बॉलीवुड की फिल्मे और टीवी धारावाहिक किये। 
इसमें से एक धारावाहिक था महाभारत। ये किरदार पहले गोविंदा और चंकी पांडे को ऑफर किया गया था लेकिन समय की व्यस्तता के चलते उन्होंने मना कर दिया जिसके बाद ये किरदार मिला मास्टर मयूर को। इन्होने ये किरदार इतनी सिद्दत के साथ निभाया की इनके अभिनय को देखकर दर्शक इमोशनल हो गए थे। फिल्मो की बात करें तो इन्होने वर्ष 1978 में मुक्कदर का सिक्कंदर, रेड रोज 1980 में, लावारिश 1981 में , गहरा ज़ख्म 1981 में , हम हैं लाजवाब वर्ष 1984 में, धर्म अधिकारी वर्ष 1986 में , वर्ष 1987 में 7 साल बाद , कानून अपना अपना 1989 में , महाभारत 1987 में , सौगंध 1991 में , हीर राँझा, ज़ी हॉरर शो , वर्ष 2001 में ये रास्ते हैं प्यार के जैसे बहुत सारे धारवाहिक और फिल्मे की हैं। लिस्ट लम्बी होने के चलते सारी  फिल्मो के नाम लेना संभव नहीं। बचपन से लेकर अब तक उनके नाम पर करीब 15  फिल्म और 9 धारावाहिक हैं। लेकिन फिर मयूर राज वर्मा बॉलीवुड से गायब हो गए। 

वर्ष 2007 में वो अपनी माँ, पत्नी और बच्चों सहित नार्थ वेल्स में शिफ्ट हो गए। उन्होंने अपने घर भारत, लंदन और USA में बनाये। उनके दो बच्चे भी हैं। मयूर आज वेल्स के जाने-माने व्यवसायी हैं। वहां वो अपनी पत्नी के साथ मिलकर इंडियाना रेस्टोरेंट चला रहे हैं। उनकी पत्नि जानी-मानी शेफ हैं। नार्थ वेल्स में वो फिल्मे बनाना चाहते हैं। इसके अलावा मयूर राज वर्मा वेल्स में लोगों को बॉलीवुड से रूबरू करा रहे हैं और इसके लिए वो वर्कशॉप और एक्टिंग क्लास भी ऑर्गेनाइज करते हैं। इसके अलावा मयूर राज वर्मा ने नॉर्थ वेल्स के टूरिज्म बोर्ड के साथ मिलकर 'वेल्स अनलिमिटेड' नाम से एक टूरिज्म कंपनी भी शुरू की है जिसके जरिए वो टूरिस्ट और बाकी लोगों को उन जगहों की सैर कराते हैं जो उन्होंने फिल्मी परदे पर देखी हैं।

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां